विज्ञान:वरदान का अभिशाप // BIHAR CENTER

विज्ञान:वरदान का अभिशाप // BIHAR CENTER

 

आज विज्ञान के महत्व को उसकी उपादेयता को नकारा नहीं जा सकता है चाहे वह घर का रसोईघर हो या समर भूमि विज्ञान के चमत्कार तथा प्रभाव स्पष्ट रूप से परिलक्षित होने हैं प्रकृति पर विज्ञान की विजय यह एक किवदंती नहीं एक प्रत्यक्ष सत्य है चंद्रमा पर मनुष्य का अभियान ट्यूब बेबी रॉकेट अनुभव आदि विज्ञान की उत्कृष्ट देन है सैकड़ों हजारों मील लंबी दूरियां भी मनुष्य पैदल ही तय करता था आज वायु के सहारे हम कुछ ही घंटों में भारत से लंदन पहुंचाते हैं कभी चंद्रमा यात्रा की बात कोरी कल्पना समझती जाती थी परंतु जब बंद चंद्रमा की सतह पर उतरे तो संपूर्ण विश्व दांतों तले उंगलियां दबा कर रह गया आज जीवन का कोई भी पक्ष ऐसा नहीं है जहां विज्ञान कीA किरने नहीं पहुंचती हो

 

विज्ञान हमारे लिए वरदान सिद्ध हुआ है इसकी उपयोगिता जीवन के हर क्षेत्र में सिद्ध है छन छन पल पल हम विज्ञान के चमत्कारों का नजारा देखते हैं संबंधित कहानियां सुनते हैं कुछ महत्वपूर्ण उपलब्धियों का संकेत करके हम उसके महत्व की उपादेयता का सहज अनुभव कर सकते हैं विज्ञान के अद्भुत चमत्कार ओं ने एक नई क्रांति पैदा कर दी है यह नया अध्याय जोड़ दिया है आवागमन के क्षेत्र में विज्ञान की उपलब्धियां विशिष्ट एवं विलक्षण है आज से 6 वर्ष पूर्व एक जगह से दूसरी जगह जाना गहने समस्या था आज विज्ञान के कारण इस क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन हुआ है रेलगाड़ियां मोटर कार बसे वायुयान आदि इतनी तेज सवार जवान निकल आई है कि बातों ही बातों में हम लंबी-लंबी दूरियां तय कर लेते हैं तार टेलीफोन वायरलेस आदि यंत्रों के अविष्कार के कारण हम घर बैठे मुंबई कोलकाता लंदन में रहने वाले लोगों से बातें कर लेते हैं नदी समुद्र पहाड़ आज हमारे आवागमन के मार्ग में किसी प्रकार को अवरोध उत्पन्न नहीं कर सकते चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान की उपलब्धियां ने संजीवनी बूटी का काम किया है पुराने जमाने में छोटी-छोटी बीमारी के कारण लोगों की मृत्यु हो जाती थी

 

आज शायद ऐसा कई रोग है जिसकी दवा सुलभ नहीं है जिसका निदान संभव नहीं है चार्जर विलक्षण चमत्कार नहीं है कि विश्व से चेचक हिले मलेरिया आदि रोगों का उन्मूलन हो गया आज

 

विज्ञान:वरदान का अभिशाप // BIHAR CENTER

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!